Jeevan Herbal

company logo

Jeevan Herbal

STONE

स्टोन रोग क्या है?(What is Stone disease ?)

पथरी रोग तब होता है जब आपके युरिन में रसायन केंद्रित हो जाते हैं और आपके युरिन पथ में क्रिस्टल बन जाते हैं। यह अक्सर आपके गुर्दे को प्रभावित करता है, हालांकि यह आपके युअरीनरी, आपके गुर्दे से आपके युअरीनरी तक युरिन ले जाने वाली नलियों या आपके  युअरीनरी को आपके शरीर के बाहर  से जोड़ने वाली नली को भी प्रभावित कर सकता है।

पथरी 2 प्रकार की होती हैं :-

1.पित्ताशय की पथरी

2. गुर्दे की पथरी

1.पित्ताशय की पथरी क्या होती है ? (What is Gall Bladder Stone)

पथरी

पित्ताशय की पथरी छोटे पत्थर होते हैं जो पित्ताशय की थैली में बनते हैं। पित्त पथरी लिवर के नीचे होती है। पित्त लिवर द्वारा निर्मित होता है और पित्ताशय की थैली में जमा होता है, जो भोजन को पचाने में मदद करने के लिए इसे छोटी आंत में छोड़ देता है। पित्त में बहुत अधिक कोलेस्ट्रॉल या बिलीरुबिन होने पर पित्त पथरी बन सकती है, जिससे वे सख्त और ठोस हो जाते हैं।

पित्त पथरी का सबसे आम लक्षण आपके ऊपरी पेट, पीठ या कंधे के क्षेत्र में दर्द होना है।

गॉल ब्लैडर स्टोन के कारण(Causes of Gall Bladder Stone)

-मधुमेह या डायबिटीज (Diabetes)

-मोटापा (Obesity)

-गर्भधारण (Pregnancy)

-मोटापे की सर्जरी के बाद (Post bariatric surgery)

-कुछ दवाओं का सेवन लंबे समय से किसी बीमारी के ग्रस्त होने के कारण

पित्ताशय में पथरी होने के लक्षण (Symptoms of Gall Bladder Stone)   

-बदहजमी

-खट्टी डकार

-पेट फुलाना

-एसिडिटी

-पेट में भारीपन

-उल्टी

पित्ताशय की पथरी का घरेलू उपचार (Home Remedies for Gall Bladder Stone)

एप्पल सिडार विनेगार पित्ताशय की पथरी निकालने में फायदेमंद (Apple Cider Vinegar Beneficial for Gall Bladder Stone Treatment)

APPLE VINEGAR

एप्पल साइडर विनेगर पित्ताशय की पथरी के लिए एक प्राकृतिक उपचार है।

एक गिलास सेब के रस में एक चम्मच सेब का सिरका मिलाकर दिन में एक बार नियमित रूप से सेवन करना चाहिए। सेब में मौजूद मॉलिक एसिड शरीर में कोलेस्ट्रॉल और पित्त लवण को बांधकर पित्त पथरी को घोलने में मदद करता है और मल के रूप में शरीर से बाहर निकलना आसान बनाता है।

नाशपाती पित्ताशय की पथरी निकालने में फायदेमंद (Pear Beneficial for Gall Bladder Stone Treatment)

PEAR

नाशपाती न केवल एक स्वादिष्ट फल है, बल्कि इसका उपयोग पित्त की पथरी के इलाज के लिए भी किया जा सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि नाशपाती में पेक्टिन नामक एक यौगिक होता है जो कोलेस्ट्रॉल से बने पत्थरों को नरम करता है ताकि उन्हें शरीर से आसानी से हटाया जा सके।

शोधकर्ताओं ने पाया है कि जब लोग हर दिन लगभग तीन सर्विंग नाशपाती खाते हैं, तो पित्त पथरी के हमलों की संख्या 40% कम हो जाती है।

चुकंदर, खीरा और गाजर का रस पित्ताशय की पथरी निकालने में फायदेमंद (Beetroot Mixture Beneficial for Gall Bladder Stone Treatment)

BETROOT

चुकंदर एक ऐसी सब्जी है जिसमें उच्च स्तर के नाइट्रेट और मैग्नीशियम होते हैं जो पित्त पथरी के उपचार में मदद करते हैं।

पित्ताशय की पथरी के इलाज के लिए चुकंदर का मिश्रण फायदेमंद होता है। यह पित्ताशय की थैली को साफ और मजबूत करता है और यकृत को साफ करता है। चुकंदर, खीरा और गाजर के रस को बराबर मात्रा में मिलाकर सेवन करने से पित्ताशय की थैली साफ और मजबूत होती है।

पित्ताशय की पथरी के लिए योग(Yoga for Gall Bladder Stone)

धनुष मुद्रा(Bow Pose)

7 7

धनुष मुद्रा एक बैकबेंड है जिसे कई तरीकों से किया जा सकता है। योगियों द्वारा सदियों से इसका अभ्यास किया जाता रहा है और यह शरीर के लिए लाभकारी होता है। यह आपके पित्ताशय, गुर्दे, यकृत और प्लीहा जैसे आंतरिक अंगों के कार्य को बेहतर बनाने में मदद करता है। यह आसन आपके पाचन तंत्र के कार्य को बेहतर बनाने में भी मदद करता है क्योंकि यह आपके रक्त शर्करा के स्तर और रक्तचाप को संतुलित करने में मदद करता है।

स्पाइनल ट्विस्ट(Spine Twist)

spine twist

स्पाइनल ट्विस्ट व्यायाम का एक रूप है जिसका अभ्यास घर पर किया जा सकता है। यह पित्त पथरी और पीठ दर्द से राहत पाने का एक आसान और प्रभावी तरीका है।

स्पाइनल ट्विस्ट भी पित्त पथरी से राहत दिलाने में मदद करता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि घुमा गति पित्ताशय की थैली से पित्त को बाहर निकालने में मदद करती है, जिससे यह खाली हो जाता है। घुमा गति लसीका नलिकाओं को खोलने में भी मदद करती है, जो शरीर से तरल पदार्थ निकालने में मदद करती है।

नारायण मुद्रा(Narayan Mudra)

narayan

नारायण मुद्रा एक योग मुद्रा है जो अंग कार्य में सुधार, पित्त पथरी के कारण होने वाले दर्द को कम करने और संक्रमण के जोखिम को कम करने में फायदेमंद है।

प्राचीन भारतीय ग्रंथों में ऊर्जा के स्तर को बढ़ाने, पाचन में सुधार और कुछ बीमारियों के इलाज के तरीके के रूप में मुद्रा का उल्लेख किया गया था। इसका उपयोग आध्यात्मिक अभ्यास के रूप में भी किया जाता है।

2.किडनी स्टोन या गुर्दे की पथरी क्या है ? (What is Kidney Stone)

kidney stone

गुर्दा की पथरी एक प्रकार का मूत्र पथरी है, जो कि गुर्दे में बनने वाले खनिज और कार्बनिक यौगिकों, आमतौर पर ऑक्सालेट लवण का एक ठोस संघनन या एकत्रीकरण है। गुर्दे की पथरी को गुर्दे में उनके स्थान के आधार पर वर्गीकृत किया जाता है।

गुर्दे की पथरी कैल्शियम, ऑक्सालेट, सिस्टीन, यूरिक एसिड और फॉस्फेट जैसे पदार्थों से बने छोटे क्रिस्टल के संचय के कारण होती है। क्रिस्टल आमतौर पर बहुत छोटे होते हैं जिन्हें माइक्रोस्कोप के बिना देखा जा सकता है।

किडनी स्टोन या गुर्दे में पथरी क्यों होती है (Causes of Kidney Stone)

गुर्दे की पथरी कठोर द्रव्यमान होते हैं जो गुर्दे में बनते हैं। वे वयस्कों में सबसे आम हैं और आमतौर पर एक अंतर्निहित स्वास्थ्य समस्या के परिणामस्वरूप विकसित होते हैं।

गुर्दे की पथरी के कई कारण होते हैं, जिनमें से कुछ में शामिल हैं:

– बहुत कम तरल पदार्थ का सेवन

– आहार में अतिरिक्त कैल्शियम या ऑक्सालेट

– विटामिन डी की अधिकता

– जंक फूड का अति सेवन

– यूरीन में केमिकल की अधिकता

– सिस्टिनुरिया

गुर्दे की पथरी के लक्षण (Symptoms of Kidney Stone)

गुर्दे की पथरी गुर्दे में दर्द का एक आम कारण है। वे कठोर, गोल या अनियमित आकार के पदार्थ होते हैं जो गुर्दे में बनते हैं और जब वे मूत्र पथ से गुजरते हैं तो दर्द का कारण बनते हैं।

लक्षण हल्के से लेकर गंभीर तक हो सकते हैं और इसमें शामिल हैं:

– युरिनके दौरान दर्द

– पीठ के निचले हिस्से, पेट में दर्द और ऐंठन

– युरिन में खून

– मतली और उल्टी

– बदबू

गुर्दे की पथरी निकालने के घरेलू उपाय (Home Remedies for Kidney Stone )

सौंफ  (Fennel seed mixture help to treat Kidney stone )

fennel

सौंफ एक प्रकार की जड़ी बूटी है जिसका उपयोग सदियों से गुर्दे की पथरी और अन्य प्रकार की मूत्र पथ की समस्याओं के इलाज के लिए किया जाता रहा है।

50-50 ग्राम के अनुपात में पाए जाने वाले सौंफ और सूखे धनिये के मिश्रण को रात में अधिक मात्रा में लेकर पीना चाहिए। व्यक्ति को दिन में भी खूब पानी पीना चाहिए।

सौंफ के बीज का मिश्रण गुर्दे की पथरी के इलाज में मदद करता है

तुलसी (Tulsi help to treat and remove Kidney stone )

tulsi

तुलसी एक पारंपरिक भारतीय जड़ी बूटी है जिसका उपयोग सदियों से आयुर्वेदिक चिकित्सा में गुर्दे की पथरी के इलाज के लिए किया जाता रहा है।

तुलसी के पौधे की पत्तियों में उच्च स्तर के आवश्यक तेल और एसिटिक एसिड पाए गए हैं जो पथरी को तोड़ते हैं और मूत्र के माध्यम से गुजरते हैं। रोजाना 5-7 तुलसी के पत्ते चबाकर खाएं। इसमें एसिटिक एसिड और अन्य आवश्यक तेल होते हैं जो पत्थरों को तोड़ते हैं और युरिन से गुजरते हैं।

 बेल पत्र(Bel patra beneficial in Kidney stone )

bel patra

बेल पत्र एक प्रकार का पौधा है जिसका उपयोग आयुर्वेदिक चिकित्सा में किया जाता है। इसे बेल के पत्तों के रूप में जाना जाता है और इसके लाभ हैं:

बेल के पत्ते दर्द और सूजन को कम करते हैं। यह पाचन में सुधार करने में भी मदद करता है।

बेल के पत्तों को गुर्दे की पथरी के इलाज में फायदेमंद दिखाया गया है। दो-तीन बेल के पत्ते पानी के साथ खाने और दो हफ्ते तक एक चुटकी काली मिर्च मिलाकर खाने से गुर्दे की पथरी दूर हो जाती है।

पथरी के छोटे छोटे टुकड़े निकालने में सहायक है पानी  (Drinking plenty water may help to remove Kidney stone )

drinking water

खूब पानी पीना गुर्दे की पथरी को दूर करने का एक प्रभावी तरीका है।

गुर्दे की पथरी खनिजों के छोटे, सख्त टुकड़े होते हैं जो गुर्दे में बनते हैं। वे गुर्दे की बीमारी का सबसे आम प्रकार हैं।

यदि आप गुर्दे की पथरी के लक्षणों का अनुभव करते हैं, तो खूब पानी पिएं और अपने शरीर से उन्हें हटाने में मदद करने के लिए पोटेशियम साइट्रेट की खुराक लें।

गुर्दे की पथरी के लिए योग(Yoga for Kidney Stones)

उष्ट्र आसन(Ushtra Asana)

ushtra

ऊंट मुद्रा एक योग आसन है जो गुर्दे की पथरी को रोकने में मदद करता है। यह दर्द, दबाव और मतली जैसे गुर्दे की पथरी के लक्षणों में मदद करने के लिए जाना जाता है।

ऊंट मुद्रा को “घुटने से छाती तक की मुद्रा” के रूप में भी जाना जाता है। यह एक सुरक्षित पोजीशन है जिसका अभ्यास किडनी स्टोन वाले या बिना स्टोन वाले लोग कर सकते हैं।

भुजंगा आसन(Bhujanga Asana)

bhujanasana

भुजंगा आसन एक योग मुद्रा है जिसका अभ्यास अक्सर उच्च रक्तचाप और गुर्दे की पुरानी बीमारी वाले लोग करते हैं।

भुजंगा आसन एक प्राचीन योग मुद्रा है जो रक्त परिसंचरण में सुधार, उदर क्षेत्र में अंगों को उत्तेजित करने और गुर्दे के कार्य को अनुकूलित करने में मदद करती है। इसे उष्ट्रासन या सलभासन के नाम से भी जाना जाता है।

धनुर आसन(Dhanur Asana)

dhanur

धनुर आसन एक योग मुद्रा है जो बैठने की स्थिति में की जाती है। यह किडनी के कार्य में सुधार करता है और इसके अन्य स्वास्थ्य लाभ भी हैं।

धनुर आसन को एड़ी या पंजों पर, पैरों को आपस में मिलाकर या फैलाकर बैठकर किया जा सकता है। हाथों को सिर के दोनों ओर रखा जाता है और ठुड्डी उन पर टिकी होती है|

 

अन्य उत्पादों के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए आप हमारे Youtube चैनल पर जा सकते हैं।

अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए यहां क्लिक करें

अधिक जानकारी के लिए इस नंबर पर संपर्क करें

Mobile No. 8950791001,9729317848

Translate »